मेरान्यूज नेटवर्क.कच्छ: कच्छ के झकऊ पुलिस स्टेशन में तैनात सब इंस्पेक्टर शिवराज गोधवी पिंगलेश्वर में गश्त कर रहे थे। तभी अचानक हुए हार्ट अटैक से उनकी मौत हो गई थी। उनकी अचानक मौत से परिवार और संबंधियों को तो गहरा सदमा लगा ही था। लेकिन पुलिस स्टेशन में तैनात ऊंट ने तो खाना-पीना छोड़ दिया है। बताया जा रहा है कि शिवराज ही इस ऊंट की देखभाल कर उसे खाना देते थे। फ़िलहाल शिवराज की मौत के बाद यह ऊंट किसी और के हाथ से खाना खाने को तैयार ही नहीं है।

झकऊ थाने के इंस्पेक्टर वी. के. कांत के मुताबिक मृतक शिवराज सिंगोदी (56) गांव के रहने वाले थे। वह लंबे समय से झकऊ थाने में तैनात थे। और हररोज इसी ऊंट पर सवार होकर बॉर्डर पर गश्त करने जाते थे। इतना ही नहीं हाई अलर्ट के बाद उन्होंने यह गश्त और तेज कर दी थी। 24 जनवरी को सुबह 10 बजे के करीब वह अपने ऊंट के साथ गश्त करने निकले थे।

रास्ते में शिवराज अचानक चक्कर खाकर गिर पड़े। उन्हें कोठारा के अस्पताल ले जाया गया। वहां भी हालत में सुधार नहीं होने पर उन्हें ऐम्बुलेंस से भुज भेजा गया लेकिन रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दिया। उनकी मौत की सूचना के बाद उनके गांव में मातम छा गया। पुलिस ने सम्मान के साथ शिवराज का दाह संस्कार किया।

इधर थाने में ऊंट ने खाना-पीना छोड़ दिया। शिवराज की याद में वह गुमसुम बैठा रहता है। उसकी हालत में सुधार लाने के लिए विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है। किसी भी तरह उसे खाना खिलाने, पानी पिलाने के प्रयास जारी है। हालांकि अब तक इन प्रयासों को कोई सफलता नहीं मिलने से दिनबदिन इस ऊंट की हालत खराब होती जा रही है। इन्सान और जानवर के बीच का यह अनोखा नाता लोगोंमे चर्चा का विषय बन गया है।